Friday, March 5, 2010

दिल की बातें बे मानी हैं

दिल की बातें बे मानी हैं।
मैं नहीं कहता,माँ कहती हैं॥
कब से राहें देख रही हैं,
शायद आँखें थक सी गयी हैं॥
टुकड़े-टुकड़े यकजा कर लूं,
यादें आज बहोत महँगी हैं॥
कोई तो है जो घर आया है,
प्यार की खुश्बूएँ फैली हैं॥
दर्द के क़िस्से, दुख के फ़साने,
अब तो यही मेरी पूँजी हैं॥
दिल सहरा जैसा वीराँ है,
आँखें इक सूखी सी नदी हैं॥
उड़ गयी कैसे इन की लिखावट,
दिल की किताबें क्यों सादी हैं॥
लौट के अब वो नहीं आयेंगी,
वो सारी बातें माज़ी हैं॥
नासमझी में क्या कर बैठे,
हम भी शायद अहमक़ ही हैं॥
मुझ में कोई बोल रहा है,
बातें मैंने उसकी सुनी हैं॥
मैं अश'आर कहाँ कहता हूं,
ये सब ग़ज़लें इलहामी हैं॥
*********

No comments: