Sunday, January 24, 2010

दिल था ख़लीजे-ग़म की तरक़्क़ी से बेख़बर

दिल था ख़लीजे-ग़म की तरक़्क़ी से बेख़बर ।
आँखें थी चश्मे-दिल की ख़राबी से बेख़बर ॥

मैं तारे-अन्कुबूत के घेरों में आ गया,
तारीकियों में लिप्टी हवेली से बे ख़बर ॥

वैसे मैं अपनी ज़ात से बेज़ार तो नहीं,
फिरता हूं कूचा-कूचा मगर जी से बे ख़बर ॥

उसके जमालियात की जहतें न खुल सकीं,
तारे-निगह था शोला-परस्ती से बेख़बर ॥

इस क़ैदो-बन्दे इश्क़ से आज़ाद कौन है,
ख़ुद ये सुपुरदगी है रिहाई से बे ख़बर ॥
**********

2 comments:

JesusJoseph said...

very good post, keep writings.
Very informative

Thanks
Joseph
http://www.ezdrivingtest.com (Free driving written test questions for all 50 states -

***FREE***)

Pawan Kumar said...

nice