Tuesday, November 17, 2009

खेतों को सींचता रहा मैं रात रात भर

खेतों को सींचता रहा मैं रात रात भर ।
हासिल हुवा मगर न मुझे कुछ हयात भर्॥

गो तू बहोत क़रीब न आया मेरे कभी ,
था बाइसे-सुकून तेरा इल्तेफ़ात भर ॥

तेरी ही धड़कनों से है ज़र्रात में हयात,
तनवीर है तेरी ही फ़क़त, कायनात भर्॥

पहचान कब हुई मुझे तेरे वुजूद की ,
थी सामने हमेशा मेरी अपनी ज़ात भर ॥

क़ादिर है तू के तुझ को हैं सारे ही अख्तियार,
ज़िन्दा रहूं मैं, मुझ में कुछ ऐसे सिफ़ात भर ॥
***************

1 comment:

"अर्श" said...

matalaa aur dusaraa she'r kahar barpaa rahe hai ... kya khub andaaj aur tewar hain aapke mananaa padega... bahut khubsurat gazal majaa aagayaa


arsh