Tuesday, July 21, 2009

मकान कितने बदलता रहा मैं घर न मिला।

मकान कितने बदलता रहा मैं घर न मिला।
तमाम उम्र जो दे साथ हम-सफ़र न मिला ॥

ग़ज़ल के फ़न पे क़लम नाक़िदों के चलते रहे,
मगर किसी का भी मेयार मोतबर न मिला ॥

शऊरो-फ़ह्म है तख़्लीक़-कार की दुनिया,
यहाँ फ़सानए-दिल कोई बे-असर न मिला ॥

ठहर के साए में जिसके ज़रा सा दम लेते ,
हमारी राह में ऐसा कोई शजर न मिला ॥

निकालीं सीपियाँ कितने ही ग़ोता-ख़ोरों ने,
जो आबदार हो ऐसा कोई गुहर न मिला ॥
****************

2 comments:

Dr. Amar Jyoti said...

'मकान कितने बदलता रहा…'
बहुत ख़ूब! एक पुराना शेर याद आया:_
दर-ओ-दरीचा-ओ-दीवार-ओ-सायबान था वो
जहां ये उम्र कटी घर नहीं मकान था वो

Nirmla Kapila said...

निकालीं सीपियाँ कितने ही ग़ोता-ख़ोरों ने,
जो आबदार हो ऐसा कोई गुहर न मिला ॥
लाजवाब बहुत सुन्दर आभार