Friday, July 31, 2009

मुड़ के देखा था फ़क़त हो गया पत्थर नाहक़ ।

मुड़ के देखा था फ़क़त हो गया पत्थर नाहक़ ।
ओढ़ना चाहता था माज़ी की चादर नाहक़ ॥

मैं था साहिल पे खड़ा उसके ख़यालात लिये,
ख़ैरियत पूछने आया था समन्दर नाहक़ ॥

हक़-पसन्दी न मेरी कुछ भी मेरे काम आयी,
मिल गयी ख़ाक मेँ अज्दाद की इज़्ज़त नाहक़॥

उसकी तस्वीर तो दिल मेँ ही थी, देखी न गयी,
लोग करते रहे ता-उम्र इबादत नाहक़ ॥

अच्छा-ख़ासा इसी दुनिया के मुताबिक़ था मिज़ाज,
उस में क्यों घोल दिया रंगे-शराफ़त नाहक़ ॥

जिस को बेताबिए-दिल की भी कोई फ़िक्र न हो,
उसकी जानिब हुई माएल ये तबीअत नाहक़ ॥

इतना मसरूफ़ रहा वादों की पर्वा भी न की,
मिल के अहबाब से होती है निदामत नाहक़ ॥
***************

1 comment:

हिमांशु । Himanshu said...

मुग्ध हूँ । उच्च स्तर की रचना से सामना हुआ अभी । धन्यवाद ।