Friday, June 26, 2009

सच्चाइयां ज़रा भी बयानात में न थीं.

सच्चाइयां ज़रा भी बयानात में न थीं.
फिर भी वो सामईन के शुबहात में न थीं.

पाबंदियां शरीअते-इस्लाम की कहीं,
हिन्दोस्ताँ-मिज़ाज रुसूमात में न थीं.

गौतम के बुत तराश रहा था मैं ख्वाब में,
किरनें मताए-कुफ्र की जज़बात में न थीं.

मैं जितनी देर तुझसे रहा महवे-गुफ्तगू,
तेरे सितम की चोटें खयालात में न थीं.

उन बस्तियों में सिर्फ अँधेरे थे मौजज़न,
कुछ जिंदा आहटें भी मकानात में न थीं.

उस से तअल्लुकात थे हमवार बे-पनाह,
जो तलखियाँ हैं आज, शुरूआत में न थीं.

आखिर मुसीबतों को है क्या मुझसे दुश्मनी,
पहले तो इस तरह ये मेरी घात में न थीं.

मंजधार में भी दिल का सफ़ीना नहीं रुका,
मजबूरियाँ कभी मेरे हालत में न थीं.
*******************

बयानात = वक्तव्यों, सामईन = श्रोताओं, शुबहात = संदेहों, पाबंदियां = प्रतिबन्ध, शरीअते-इस्लाम = इस्लामी धर्म-संहिता, हिन्दोस्ताँ-मिज़ाज = भारतीय स्वभाव वाले, रुसूमात = रीति-रिवाजों, मताए-कुफ्र = काफिर होने की दौलत, महवे-गुफ्तगू= बातचीत में व्यस्त, थे मौजज़न = लहरें मार रहे थे, सफ़ीना = कश्ती.

No comments: