Wednesday, June 17, 2009

ज़रूरीयात हैं महदूद, ख्वाहिशें हैं बहोत.

ज़रूरीयात हैं महदूद, ख्वाहिशें हैं बहोत.
दिलो-दिमाग की आपस में क्यों ज़िदें हैं बहोत.

ये घाटियाँ जो हैं बर्फ़ीली वादियों से घिरी,
बदलते मौसमों की इन में आहटें हैं बहोत.

हमारे कारवां जिन रास्तों से गुज़रेंगे,
लुटेरे सुनते हैं उन रहगुज़ारों में हैं बहोत.

ये रिश्तेदारियां कैसी हैं खानदानों की,
के खून एक है फिर भी अदावतें हैं बहोत.

पड़ोसियों में बजाहिर तो बात होती है,
मगर है लोगों का कहना के चाश्मकें हैं बहोत.

न सिर्फ़ मस्लकों में लोग हो गए तक़सीम,
छुपी दिलों में सभी के कुदूरतें हैं बहोत.

चुनी है अपने लिए हक़ की राह तुमने अगर,
रहे ख़याल यहाँ आज़्माइशें हैं बहोत.
***************

ज़रूरीयात = आवश्यकताएं, महदूद = सीमित, रहगुज़ारों = रास्तों, अदावतें = शत्रुताएं, मस्लकों = सम्प्रदायों, तकसीम = विभाजित, कुदूरतें = मलिनताएँ, आज़माइशें = परीक्षाएं.

No comments: